fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 49 28-05-2017
 
rktk [kcj  
 
सुर्खियां जो नहीं बनीं
 
सपनों का कोचिंग संस्थान

राजस्थान का कोटा आईआईटी कोचिंग के लिए पूरे भारत में मश्हूर है। लेकिन यहां के कोचिंग संस्थानों में अक्सर छात्रों को दाखिला नहीं मिल पाता। ऐसे में आईआईची के अध्यापक उमपन्यू ने कैटलिस आर के नाम से एक कोचिंग संस्थान की स्थापना की है। यहां बच्चे ?kj में एक साथ रहकर पढ़ते हैं। उपमन्यु ने तीन साल में चार आईआईटी जोन टॉपर दिए हैं। ऐसा कोटा का कोई भी संस्थान नहीं कर सका। इस साल इस उपमन्यू का का लक्ष्य ५०० ऐसे बच्चों को सिलेक्ट करवाना है] जो पढ़ने में एवरेज हैं। स्कूल के दिनों से ही पढ़ाई में तेज उपमन्यु का चयन सेंट्रल इंडिया के जीएसआईटीएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में हुआ था] लेकिन पढ़ाने की ललक और ^फैक्ट्रीनुमा^ कोचिंग संस्थानों की हालत देखकर उन्होंने अपना संस्थान शुरू करने का सपना देखा। आज कैटालिस आर के देश में आठ शहरों में सेंटर्स हैं। भोपाल में पहले बैच से ही इन्होंने आईआईटी जोन टॉपर दिया। प्रोफेसर उपमन्यु का सपना था कि एक ऐसा संस्थान हो जहां प्रतिभाएं अपने श्रेष्ठ मुकाम तक पहुंच सकें। आज सैकड़ों टीचर्स कैटालाईज आर के आठ विभिन्न संस्थानों पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं और छात्रों सपना पूरा कर रहे हैं। प्रोफेसर सुमित उपमन्यु के खाते में आईआईटी&जेईई के लिए हर साल सबसे ज्यादा सिलेक्शन देने का रिकॉर्ड है। वह कहते हैं कि दूसरे कोचिंग संस्थान आज फैक्ट्री की तरह काम कर रहे हैं। लेकिन उपमन्यू का मकसद छात्रों को बेहतर शिक्षा देना है।


बारत की उम्र में रोबोट

 

अपनी उम्र के दूसरे बच्चों की ही तरह काव्या विग्नेश भी पढ़ाई से समय मिलते ही खेल&कूद में मशगूल हो जाती हैं। लेकिन यहीं वह दूसरे बच्चों से अलग भी हो जाती है] क्योंकि वह इस समय का उपयोग ऐसी चीजें बनाने में करती है] जिनसे मौजूदा समय की समस्याओं का समाधान निकाला जा सके। साल की काव्या इन दिनों एक ऐसा रोबोट बनाने के अंतिम पड़ाव पर हैं] जो रिहायशी इलाकों में मधुमक्खियों को सुरक्षा प्रदान करेगा। काव्या अगले महीने डेनमार्क में होने वाले अंतरराष्ट्रीय रोबोटिक्स महोत्सव में अपने इस रोबोट को पेश करने वाली हैं। वसंत कुंज स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में कक्षा सात में पढ़ने वाली काव्या रोबोटिक्स के क्षेत्र में आयोजित दुनिया की प्रतिष्ठित प्रतिस्पर्धा ^QLVZ ysxks yhx* के लिए चुनी जाने वाली भारत की सबसे युवा टीम की सदस्य हैं। काव्या ने पिछले तीन o"kks± के दौरान दिल्ली रिजनल रोबोटिक्स pSafi;uf'ki का खिताब दो बार ¼२०१५] २०१६½ जीता। अब वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करने को लेकर बेहद उत्साहित हैं। काव्या के मुताबिक उन्होंने मधुमक्खियों को इसलिए चुना] क्योंकि उनकी काफी अनदेखी की जाती है। काव्या कहती हैं कि हमें पढ़ाया जाता है कि दुनिया भर में ८५ फीसदी फसलों में परागण मधुमक्खियां करती हैं। हमारे खाने का हर तीसरा निवाला मधुमक्खियों या मधुमक्खियों पर निर्भर जीवों द्वारा किए गए परागण से तैयार हुई फसल का होता है। इसलिए हमने मधुमक्खी के छत्ते को एक जगह से हटाकर सुरक्षित तरीके से दूसरी जगह पहुंचाने का समाधान तलाशने का फैसला किया।

 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री हरीश रावत के सचिव के स्टिंग आॅपरेशन की खबर से कांग्रेस की छवि प्रभावित हुई है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 64%
uk & 13%
 
 
fiNyk vad

अभी हमारे सामने सबसे बड़ा मुद्दा सांप्रदायिक ताकतों को धवस्त करना है। बिहार में जनादेश पांच साल के लिए मिला है। विपक्ष एक जुट है। हम उच्चतम न्यायालय के आदेश का सम्मान करते हैं

foLrkkj ls

 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
1638665
ckj