fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 41 02-04-2017
 
rktk [kcj  
 
विविध
 
एक आंसू गिरा सोचते&सोचते

नक्श लायलपुरी

२४ फरवरी १९२८&२२ जनवरी २०१७

जाने&माने उर्दू के शायर और गीतकार नक्श लायलपुरी ने २२ जनवरी को इस दुनिया को अलविदा कह दिया। वह ८८ साल के थे और पिछले कई महीनों से बीमार चल रहे थे। नक्श पिछले करीब पचास सालों से बॉलीवुड सिनेमा में उर्दू गीत लिखते आए हैं। फिल्मों में उन्हें पहला मौका १९५२ में फिल्म ^जग्गू^ में मिला] जिसमें उन्होंने ^अगर तेरी आंखों से आंखें मिला दूं^ गीत लिखा था। फिल्मों में १९७० के दशक के प्रारंभ तक खास सफलता नहीं मिल पाई थी। उनकी चर्चित फिल्में ^चेतना^] ^आहिस्ता आहिस्ता^] ^तुम्हारे लिए^] ^?kjkSank^ भी शामिल हैं। 

मुंबई में अपने संद्घर्ष के शुरुआती दिनों में उन्होंने कुछ समय डाक विभाग में भी काम किया था। कई शीर्ष फिल्म निर्देशकों] संगीत निर्देशकों और गायकों के साथ काम किया और सुमधुर] रुमानी और भावनात्मक गीत लिखे। लायलपुरी के लिखे कुछ सर्वश्रेष्ठ गीतों में ^मैं तो हर मोड़ पर^] ^ना जाने क्या हुआ^] ^जो तूने छू लिया^] शामिल हैं। बाद के दिनों में गीतों में सतही बातें शामिल करने की मांग से दुखी लायलपुरी ने १९९० के अंतिम दशक में बॉलीवुड से संन्यास ले लिया और टेलीविजन के लिए गीत लिखने लगे थे। नक्श लायलपुरी के फिल्मी गानों की बहुत दिनों तक धूम रही। पिछले दिनों उनकी पुस्तक ^आंगन आंगन बरसे गीत^ उर्दू में प्रकाशित हुई थी। 

नक्श का जन्म २४ फरवरी १९२८ को लायलपुर (पाकिस्तान का फैसलाबाद) में हुआ। उनके पिता जगन्नाथ ने उनका नाम जसवंत राय रखा। लेकिन शायर बनने के बाद उन्होंने अपना नाम बदल लिया। अब वह नक्श लायलपुरी के नाम से मशहूर हो चुके हैं। नक्श लायलपुरी की शायरी में जबान की मिठास] एहसास की शिद्दत और इजहार का दिलकश अंदाज मिलता है। नक्श साहब की शायरी में पंजाब की मिट्टी की महक] लखनऊ की नफासत और मुंबई के समंदर का धीमा&धीमा संगीत है। जिंदगी के तजुरबात ने उनके लफ्जों को निखारा&संवारा है। नक्श पिछले कई सालों से मुंबई में एक गुमनाम जिंदगी बिता रहे थे। 

 

एक आंसू गिरा सोचते&सोचते

याद क्या आ गया सोचते&सोचते

कौन था] क्या था वो] याद आता नहीं

याद आ जाएगा सोचते&सोचते

जैसे तस्वीर लटकी हो दीवार से

हाल ये हो गया सोचते&सोचते

सोचने के लिए कोई रस्ता नहीं

मैं कहां आ गया सोचते&सोचते

मैं भी रसमन तअल्लुक निभाता रहा

वो भी अक्सर मिला सोचते&सोचते

फैसले के लिए एक पल था बहुत

एक मौसम गया सोचते&सोचते

^नक्श^ को फिक्र रातें जगाती रहीं

आज वो सो गया सोचते&सोचते

 

पलट कर देख लेना जब सदा दिल की सुनाई दे

मेरी आवाज में शायद मेरा चेहरा दिखाई दे

मुहब्बत रौशनी का एक लमहा है मगर चुप है

किसे शमए&तमन्ना दे किसे दागे जुदाई दे

चुभें आंखों में भी और रुह में भी दर्द की किरचें

मेरा दिल इस तरह तोड़ो के आईना बधाई दे

खनक उठें न पलकों पर कहीं जलते हुए आंसू

तुम इतना याद मत आओ के सन्नाटा दुहाई दे

रहेगा बन के बीनाई वो मुरझाई सी आंखों में

जो बूढ़े बाप के हाथों में मेहनत की कमाई दे

मेरे दामन को बुसअत दी है तूने दश्तो&दरिया की

मैं खुश हूं देने वाले] तू मुझे कतरा के राई दे

किसी को मखमली बिस्तर पे भी मुश्किल से नींद आए

किसी को नक्श दिल का चौन टूटी चारपाई दे

 

मैं दुनिया की हकीकत जानता हूं

किसे मिलती है शोहरत जानता हूं

मेरी पहचान है शेरो सुखन से

मैं अपनी कद्रो&कीमत जानता हूं

तेरी यादें हैं] शब बेदारियां हैं

है आंखों को शिकायत जानता हूं

मैं रुसवा हो गया हूं शहर&भर में

मगर! किसकी बदौलत जानता हूं

गजल फूलों&सी] दिल सेहराओं जैसा

मैं अहले फन की हालत जानता हूं

तड़प कर और तड़पाएगी मुझको

शबे&गम तेरी फितरत जानता हूं

सहर होने को है ऐसा लगे है

मैं सूरज की सियासत जानता हूं

दिया है ^नक्श^ जो गम जिंदगी ने

उसे मैं अपनी दौलत जानता हूं

 

माना तेरी नजर में तेरा प्यार हम नहीं

कैसे कहें के तेरे तलबगार हम नहीं

सींचा था जिस को खूने तमन्ना से रात दिन

गुलशन में उस बहार के हकदार हम नहीं

हमने तो अपने नक्शे कदम भी मिटा दिए

लो अब तुम्हारी राह में दीवार हम नहीं

यह भी नहीं के उठती नहीं हम पे उंगलियां

यह भी नहीं के साहबे किरदार हम नहीं

कहते हैं राहे इश्क में बढ़ते हुए कदम

अब तुझसे दूर] मंजिले दुशवार हम नहीं

जानें मुसाफिराने रहे & आरजू हमें

हैं संगे मील] राह की दीवार हम नहीं

पेशे&जबीने&इश्क उसी का है नक्शे पा

उस के सिवा किसी के परस्तार हम नहीं

 

जहर देता है कोई] कोई दवा देता है

जो भी मिलता है मेरा दर्द बढ़ा देता है

किसी हमदम का सरे शाम खयाल आ जाना

नींद जलती हुई आंखों की उड़ा देता है

प्यास इतनी है मेरी रूह की गहराई में

अश्क गिरता है तो दामन को जला देता है

किसने माजी के दरीचों से पुकारा है मुझे

कौन भूली हुई राहों से सदा देता है

वक्त ही दर्द के कांटों पे सुलाए दिल को

वक्त ही दर्द का एहसास मिटा देता है

^नक्श^ रोने से तसल्ली कभी हो जाती थी

अब तबस्सुम मेरे होटों को जला देता है

 

वो आएगा दिल से दुआ तो करो

नमाजे&मुहब्बत अदा तो करो

मिलेगा कोई बन के उनवान भी

कहानी के तुम इब्तदा तो करो

समझने लगोगे नजर की जबां

मुहब्बत से दिल आशना तो करो

तुम्हें मार डालेंगी तन्हाइयां

हमें अपने दिल से जुदा तो करो

तुम्हारे करम से है यह जिंदगी

मैं बुझ जाऊंगा तुम हवा तो करो 

हजारों मनाजिर निगाहों में हैं

रुकोगे कहां फैसला तो करो

पुकारे तुम्हें कूचाए&आरजू

कभी ^नक्श^ दिल का कहा तो करो

 

तुझ संग प्रीत लगाई सजना

तुझ संग प्रीत लगाई

सजना सजना

सजना

हो रामा

हो रामा

तुझ संग प्रीत लगाई सजना

सजना सजना हो रामा

तुझ संग प्रीत लगाई सजना

सजना सजना हो रामा

हाय बेदर्दी हाय बेदर्दी

तुझ संग प्रीत + + +

 

आजा तेरे हाथों में मेहंदी लगा दूं

गोरी&गोरी बांहों पे कंगना चढ़ा दूं

काली द्घटाओं का कजरा लगा दूं

इक तू ही मन को है भाई सजना

सजना सजना हो रामा

तुझ संग प्रीत + + +

 

तूने मुझे चोरी से अपना बनाया

प्यार की राहों पे चलना सिखाया

दुख और सुख में जीना बताया &२

मैं हूं तुझ पे वारी सजना

सजना सजना हो रामा

हाय बेदर्दी हाय बेदर्दी

तुझ संग प्रीत + + +

 

जिंदगी की ना टूटे लड़ी

प्यार कर ले द्घड़ी दो द्घड़ी

लंबी&लंबी उमरिया को छोड़ो

प्यार की इक द्घड़ी है बड़ी

प्यार कर ले द्घड़ी दो द्घड़ी

जिंदगी की ना + + +

 

उन आंखों का हंसना भी क्या

जिन आंखों में पानी न हो

वो जवानी] जवानी नहीं

जिसकी कोई कहानी न हो

आंसू हैं खुशी की लड़ी

प्यार कर ले + + +

 

मितवा तेरे बिना] लागे ना रे जियरा

आज से अपना वादा रहा

हम मिलेंगे हर एक मोड़ पर

दिल की दुनिया बसाएंगे हम

गम की दुनिया का डर छोड़ कर

जीने मरने की किसको पड़ी

प्यार कर ले + + +

 

लाख गहरा हो सागर तो क्या

प्यार से कुछ भी गहरा नहीं

दिल की दीवानी हर मौज पर

आसमानों का पहरा नहीं

टूट जाएगी] हर हथकड़ी

प्यार कर ले + + +

 

प्रस्तुति % सिराज माही

 

 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री हरीश रावत के सचिव के स्टिंग आॅपरेशन की खबर से कांग्रेस की छवि प्रभावित हुई है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 61%
uk & 13%
 
 
fiNyk vad

नई दिल्ली: foLrkkj ls

 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
1565703
ckj