fnYyh uks,Mk nsgjknwu ls izdkf'kr
चौदह o"kksZa ls izdkf'kr jk"Vªh; lkIrkfgd lekpkj i=
vad 6 29-07-2017
 
rktk [kcj  
 
संवाद
 
^जिले का विरोधी नहीं हूं^

 

रानीखेत को जिला बनाने और प्रदेश सरकार की वर्तमान स्थिति पर पूर्व विधायक करण माहरा से आकाश नागर की बातचीत

 

मुख्यमंत्री हरीश रावत के रानीखेत को नगर पालिका बनाने की ?kks"k.kk के बावजूद लोग जिले की मांग पर अड़े हुए gSa\

मेरा मानना है कि लोगों को मुख्यमंत्री की ?kks"k.kk का स्वागत करते हुए संतोष व्यक्त करना चाहिए कि सीएम ने उनकी एक मांग पूरी कर दी है। नगर पालिका की मांग भी लोग वर्षों से करते आ रहे हैं। जो लोग कंटोन्मेंट ¼छावनी बोर्ड½ से निर्माण कार्य आदि कराने को लेकर उलझते रहते हैं] अब उनको इस परिस्थिति से नहीं गुजरना पड़ेगा। नगर पालिका से नक्शा पास कराकर वे अपने द्घरों] संस्थानों में निर्माण कार्य करा सकते हैं। रही बात जिले की तो मैं रानीखेत को जिला बनाए जाने का विरोधी नहीं] बल्कि पक्षधर हूं। मैं भी चाहता हूं कि रानीखेत को जल्द से जल्द जिला बनाया जाए। लेकिन विपक्षी पार्टी ने नगर पालिका की ?kks"k.kk को नकार कर जिस तरह जिले की मांग की है वह गलत है। विपक्षी दलों के ऐसा करने के पीछे का कारण यह है कि कहीं कांग्रेस को नगरपालिका बनाने का श्रेय न चला जाए।

 

सोशल मीडिया पर ^अभियान रानीखेत जिला^ को काफी समर्थन मिल रहा है। इस अभियान को चलाने वाले विपक्षी दलों के नहीं] बल्कि कांग्रेस के नेता gSa\

सभी व्यक्तियों को अभिव्यक्ति का अधिकार है। हर कोई अपने विचार व्यक्त कर सकता है। इसमें कोई बुराई नहीं है। लेकिन बुरा तब लगता है] जब नगरपालिका की ?kks"k.kk के बाद भी मुख्यमंत्री हरीश रावत का फोटो लगाकर उसके नीचे ^बाबाजी का ठुल्लू^ लिख दिया जाता है। अभियान चलाने वाले बुद्धिजीवी हैं। उन्हें अपने फेसबुक पेज पर ऐसी असामाजिक पोस्ट नहीं चलानी चाहिए। इससे लगता है कि वह किसी के हाथों में खेल रहे हैं।

 

रानीखेत के पूर्व विधायक और आपके भाई पूरन रावत ने ?kks"k.kk की है कि अगर ३१ मार्च तक जिला नहीं बना तो वे आमरण अनशन करेंगे? इसको आप क्या dgsaxs\

दादा एक सुलझे हुए राजनेता हैं। वह जो कुछ करेंगे जनहित में ही करेंगे। रानीखेत को विकास की ऊंचाइयों तक पहुंचाने में उनका विशेष योगदान रहा है। यही नहीं बल्कि स्व ़ गोविंद सिंह माहरा और खुद मैं भी रानीखेत को पर्यटन नगरी के रूप में मानचित्र पर स्थापित करने के लिए पूरे जी-जान से जुटे रहे हैं। रानीखेत के लिए अभी आगे भी बहुत कुछ करना है।

 

रानीखेत को भविष्य का शहर बनाने के लिए रावत सरकार ने अब तक क्या किया gSa\

रानीखेत में सबसे बड़ी समस्या पार्किंग की आ रही थी उसके लिए हमने सरकार के सम्मुख बहुमंजिली पार्किंग का प्रस्ताव रखा था। जिसे मुख्यमंत्री हरीश रावत ने स्वीकार कर लिया है। जिस तरह अल्मोड़ा में बहुमंजिली पार्किंग बनी है] ठीक उसी तरह यहां भी बनेगी। इसके लिए तीन करोड़ का बजट में प्रावधान हो गया है। सीएम के निर्देश पर कैंट बोर्ड से इसकी एनओसी लेने की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। बहुमंजिला पार्किंग छावनी क्षेत्र के रोडवेज बस अड्डे और गोविंद सिंह माहरा नागरिक चिकित्सालय के बीच प्रस्तावित है। इसके अलावा बार एसोसिएशन के लिए पुस्तकालय एवं तहसील के आवासीय भवनों का इस्टीमेट भी तैयार कराया जा रहा है।

 

रानीखेत को पर्यटकों का पसंदीदा नगर बनाने के लिए कोई ऐसा स्थल जिसको आपकी सरकार विकसित करने की योजना पर काम कर रही gSa\

गोल्फ कोर्स ग्राउंड से कुछ दूरी पर स्थित दलमोठी वन क्षेत्र सौंदर्य से भरपूर है। ११२०० एकड़ में फैले जैव विविधता वाले इस वन क्षेत्र को इको टूरिज्म से जोड़ने की योजना है।  इसे कॉर्बेट पार्क की तरह विकसित कर पर्यटकों के लिए विशेष क्षेत्र बनाया जाएगा। यह क्षेत्र प्राकृतिक रूप से तमाम वनस्पति प्रजातियों एवं जीव-जंतुओं के लिहाज से बेहद ही उर्वरक है। इसकी खूबसूरती और ख्ाूबियों के मद्देनजर पर्यटक यहां आकर्षित होंगे। क्षेत्र का विकास कराने की योजना के तहत यहां प्रशासनिक अधिकारियों के दौरे भी कराए जा चुके हैं।

 

अनुसूचित जाति के कृषकों को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए सरकार की क्या योजना gSa\

अनुसूचित जाति के कूषक अब तक ज्यादातर दूसरे के खेतों में ही काम कर जीवन-यापन करते आए हैं। सरकार ऐसे लोगों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रत्येक परिवार को ० ़५० एकड़ कूषि भूमि उपलब्ध कराएगी।

 

गोविंद सिंह माहरा नागरिक चिकित्सालय में सुवि/kkओं का टोटा है। डॉक्टर भी कम हैं। यह अस्पताल मरीजों के लिए रेफरल सेंटर बनकर रह गया gSa\

अस्प्ताल का विस्तारीकरण कर दिया गया है। अब यह २०० बेड का अस्पताल होगा। मुख्यमंत्री ने इसकी ?kks"k.kk कर दी है। यहां मरीजों के लिए प्रत्येक सुविधा दी जायेगी जिससे वे दूसरे चिकित्सालय में जाकर इलाज कराने को बाध्य नहीं होंगे। रानीखेत के अलावा सीएम ने अल्मोड़ा में नर्सिंग कॉलेज का भी mn~?kkVu कर दिया है। जिसका निर्माण भी शुरू हो चुका है।

 

आपकी नजर में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भाजपा से अलग हटकर क्या नया काम किया gSa\

मुख्यमंत्री ने प्रदेश के विकास के लिए हरसंभव कोशिश की है। जिसके चलते उन्होंने अपने स्वास्थ्य तक को अनदेखा कर दिया। पूरा प्रदेश जानता है कि वह गर्दन में चोट लगने के बावजूद कभी आराम से नहीं बैठे। सुबह ५ बजे से रात के एक बजे तक वे फरियादियों से मिलते हैं। भाजपा में एक पूर्व मुख्यमंत्री तो फरियादियों को थोड़ा-सा लेट होते ही बैरंग लौटा देते थे। लेकिन रावत जी के दरबार में ऐसा नहीं है। उनके दरवाजे सबके लिए खुले हुए हैं। मुख्यमंत्री ने इस बार के बजट में जनता से राय ली है जो उनकी सार्थक पहल है। इससे सीएम जनता से सीधा जुड़ रहे हैं।

 
         
 
ges tkus | vkids lq>ko | lEidZ djsa | foKkiu
 
fn laMs iksLV fo'ks"k
 
 
fiNyk vad pquss
o"kZ  
 
 
 
vkidk er

क्या मुख्यमंत्री हरीश रावत के सचिव के स्टिंग आॅपरेशन की खबर से कांग्रेस की छवि प्रभावित हुई है?

gkW uk
 
 
vc rd er ifj.kke
gkW & 66%
uk & 13%
 
 
fiNyk vad

उत्तराखण्ड राज्य के एक बड़े नौकरशाह अपने परिवार संग एक निजी कंपनी के हेलीकॉप्टर में सफर कर रहे थे। ये नौकरशाह वही हैं जिनकी तूती एक जमाने में राज्य में बोला करती थी। सरकार या सीएम कोई

foLrkkj ls
 
 
vkidh jkf'k
foLrkkj ls
 
 
U;wtysVj
Enter your Email Address
 
 
osclkbV ns[kh xbZ
1742163
ckj