ABOUT US

हर बड़े सफर की शुरुआत छोटे कदम से होती है। ११ नवंबर २००१ को शुरू हुआ ‘दि संडे पोस्ट’ का सफर लगातार जारी है। हम सफलता से ज्यादा सार्थकता में विश्वास करते हैं। दिनकर ने लिखा था-‘जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनका भी अपराध।’ कबीर ने सिखाया – ‘न काहू से दोस्ती, न काहू से बैर’। इन्हें ही मूलमंत्र मानते हुए हम अपने समय में हस्तक्षेप करते हैं। सच कहने के खतरे हम उठाते हैं। उत्तराखण्ड से लेकर दिल्ली तक में निजाम बदले मगर हमारी नीयत और सोच नहीं। हम देश, प्रदेश और दुनिया के अंतिम जन जो वंचित, उपेक्षित और शोषित है, उसकी आवाज बनने में ही अपनी सार्थकता समझते हैं। दरअसल हम सत्ता नहीं सच के साथ हैं वह सच किसी के खिलाफ ही क्यों न हो ?